Operating system क्या है – Definition

0
143
Operating System

Operating system एक Software है जो के User और Computer हार्डवेयर के बिच में इंटरफ़ेस की तरह काम करता है। Operating सिस्टम का मुख्य ऑब्जेक्टिव Computer को यूजर के यूज़ के लिए Convenient और कंप्यूटर हार्डवेयर को Efficient वे में Utilize करना है

operating system

Operating system बेसिक टास्क को परफॉर्म करता है जैसे कीबोर्ड से इनपुट लेना, इंस्ट्रक्शन को प्रोसेस करना और स्क्रीन को Output भेजना। 

Operating System क्या होता है ?

Software कंप्यूटर का Non-Touchable पार्ट होता है। और सॉफ़्टवेयर वे हैं जिनका उपयोग ऑपरेशन करने के लिए किया जाता है ताकि सॉफ़्टवेयर का उपयोग केवल एप्लिकेशन बनाने के लिए किया जा सके, लेकिन हार्डवेयर वे हैं जिनका उपयोग ऑपरेशन करने के लिए किया जाता है। ऑपरेटिंग सिस्टम वह सॉफ्टवेयर है जिसकी ज़रूरत Program और Utility को रन करने के लिए होती है।

ऑपरेटिंग सिस्टम एक ब्रिज है जो कंप्यूटर हार्डवेयर और एप्लीकेशन Program के बिच में एक बेटर Intraction परफॉर्म करने के लिए काम करता है। UNIX, MS-DOS, MS-Windows – 98/XP/Vista, Windows-NT/2000, OS/2 and Mac OS कुछ Operating System के Example है।

 फंक्शनज़ ऑफ़ Operating System

 

Operating System का मतलब है रिसोर्स मेनेजर जो सभी रिसोर्स को Manage करता है, और मेमोरी प्रोसेसर, इनपुट/आउटपुट डिवाइस जैसे सिस्टम से अटैच्ड होते है। 

Storage Management – ये तमाम स्टोरिंग और मैनेजिंग फाइल और Diarectory रीडिंग राइटिंग फाइल को Manage करता है। 

Operating System कंप्यूटर की ओवरआल एक्टिविटीज़ और कंप्यूटर से जुड़े इनपुट और आउटपुट डिवाइस को Manage करता है। यह पहला Software है जिसे आप कंप्यूटर खोलते ही देखते है और आखरी सॉफ्टवेयर है जिसे कंप्यूटर बंद करते वक़्त देखते है। 

ये सॉफ्टवेयर उन तमाम सॉफ्टवेयर को इनेबल करता है जिसे आप यूज़ करते है। आसान शब्दों में हम कह सकते है के ऑपरेटिंग सिस्टम दो कामों को करता है – 

  1. यह सिस्टम के सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर रिसोर्स को Manage करता है। इन रिसोर्सों में प्रोसेसर, मेमोरी, डिस्क स्पेस इत्यादि शामिल हैं। यह हार्डवेयर के सभीडिटेल को जाने बिना हार्डवेयर से निपटने के लिए एप्लीकेशन के लिए स्टेबल और  कंसिस्टेंट तरीका प्रोवाइड करता है।

Operating System का पहला टास्क बहुत इम्पोर्टेन्ट है जोकि सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर रिसोर्स को मैनेज करना है। क्योंकि बहुत सरे प्रोसेस काम को पूरा करने के लिए CPU टाइम और मेमोरी स्पेस प्राप्त करने के लिए एक-दूसरे से Compete करती हैं। इस बारे में ऑपरेटिंग सिस्टम हर प्रोसेस की ज़रूरतों को पूरा करने के लिए अवेलेबल रिसोर्सेज़    को Alocate करने के लिए एक Maneger के रूप में कार्य करता है।

2. दूसरा टास्क के लिए एक कंसिस्टेंट एप्लीकेशन इंटरफ़ेस प्रदान करना विशेष रूप से महत्वपूर्ण है। एक कंसिस्टेंट एप्लीकेशन प्रोग्राम इंटरफ़ेस (एपीआई) किसी यूजर पर एक एप्लिकेशन प्रोग्राम लिखने और किसी अन्य कंप्यूटर पर इस प्रोग्राम को चलाने के लिए यूजर या  (एस / डब्ल्यू डेवलपर) को अनुमति देता है। यह मशीन के उपयोगकर्ता को मशीन के ऑपरेशन के लो लेवल डिटेल से बचाता  है और अक्सर आवश्यक सुविधाएं प्रदान करता है।

Types ऑफ़ Operating System

Operating System बहुत तरह के होते है जिन्हें उनके वर्किंग के हिसाब से Organize किया जाता है

Serial processing: Serial processing ऑपरेटिंग सिस्टम प्रोसेस के प्रोसेसिंग के लिए FIFO( First In First Out) स्ट्रक्चर को फोलो करता है

Batch Processing: Batch Processing में एक ही तरह के काम को Prepare और प्रोसेस किया जाता है

Real Time System: रीयल टाइम सिस्टम का उपयोग वहां किया जाता है जहां Higher और Timely रेस्पोंस की आवश्यकता होती है।

Distributed Operating System: इस ऑपरेटिंग सिस्टम में डेटा बहुत सरे लोकेशन पे स्टोर और प्रोसेस होता है

Multiprocessing: इस टाइप के ऑपरेटिंग सिस्टम में दो या उस से ज्यादा Cpu ऑपरेटिंग सिस्टम में होता है

Parallel operating systems: ये ऑपरेटिंग सिस्टम computer के सभी रनिंग रिसोर्स को Parallelly Manageकरता है

 कैसे काम करता है Operating System

जब हम कंप्यूटर खोलते है तो ऑपरेटिंग सिस्टम Program मेन मेमोरी में लोड हो जाता है। इस program को हम कर्नेल कहते है। एक बार स्टार्ट होने के बाद, सिस्टम प्रोग्राम यूजर प्रोग्राम चलाने के लिए तैयार होता है और उन्हें हार्डवेयर का Efficiently यूज़ करने की परमिशन देता है। 

ऑपरेटिंग सिस्टम को classify किया जा सकता है अगर एक से ज़्यादा कामों को एक साथ किया जा सकता है, या सिस्टम एक से ज्यादा यूजर के द्वारा इस्तेमाल किया जाता हो। इसे हम सिंगल यूजर या Multiple यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम और सिंगल Tasking या Multiple Tasking ऑपरेटिंग सिस्टम भी कहा जाता है। एक Multiple ऑपरेटिंग सिस्टम का Multi Tasking करना ज़रूरी होता है। MS-DOS सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम है जबकि LINUX Multiple यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम है।

Characteristics ऑफ़ Operating System

  • ऑपरेटिंग सिस्टम उन Program का कलेक्शन है जो दुसरे Program के Execution के लिए जिम्मेदार होता हैं।
  • ऑपरेटिंग सिस्टम वह है जो सभी इनपुट और आउटपुट Devices को जो सिस्टम से जुड़े हुए हैं कंट्रोल करने के लिए
  • जिम्मेदार होता है।ऑपरेटिंग सिस्टम वह है जो सभी एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर को चलाने के लिए जिम्मेदार होता है।
  • ऑपरेटिंग सिस्टम यूजर और सिस्टम के बिच कम्युनिकेशन प्रोवाइड करता है
  • ऑपरेटिंग सिस्टम बहुत सरे प्रोसेस का Scheduling मतलब रिसोर्स को मेमोरी Allocate करता है
  • ऑपरेटिंग सिस्टम Bios में स्टोर्ड रहता है मतलब बेसिक इनपुट और आउटपुट सिस्टम में रहता है। जब यूजर अपने सिस्टम को स्टार्ट करता है तो यह सभी नेसेसरी इनफार्मेशन को पढ़ लेता है जो सिस्टम को Execute करने के लिए इस्तेमाल किये जाते है। इस काम के लिए ऑपरेटिंग सिस्टम को computer में लोड होना होगा, इसके लिए फ्लोपी डिस्क या हार्ड ड्राइव का यूज़ ऑपरेटिंग सिस्टम को स्टोर करने के लिए किया जाता है।