WordPress Theme Change करने से पहले इन 15 बातों को ज़रूर करें

0
157
WordPress Theme Change

अगर आपने वर्डप्रेस का यूज़ किया है, तो आपने शायद अपने लाइफ में कम से कम एक बार थीम को स्विच किया होगा। यदि आपने नहीं किया है, और यह आपका फर्स्ट टाइम है, तो यह भी बेहतर है। वर्डप्रेस की ब्यूटी यह है कि यह यूजर को थीम बदलने के लिए बहुत आसानी प्रोवाइड करता है। यह सचमुच कुछ क्लिक का काम है। लेकिन WordPress Theme Change करना सिर्फ क्लिक करने से बहुत ज़्यादा है। इस आर्टिकल में, हम आपको वर्डप्रेस थीम बदलने से पहले चीजों की एक चेकलिस्ट प्रोवाइड  करेंगे जो आपको करना होगा। यह स्टेप यह सुनिश्चित करने के लिए इम्पोर्टेन्ट हैं कि प्रोसेस स्मूथली हो जाती है वर्ना आप उन एलेमेंट्स को खोने सकते हैं जिन्हें आप खोना नहीं चाहते है।

1. करंट Theme के  लिए नोट्स बनाए

WordPress Theme Change

कई वर्डप्रेस यूजर अपनी समस्याओं के समाधान खोजने के लिए वेब सर्फ करते हैं। अक्सर वे उन सलूशन को Snippets के रूप में पाते हैं जो वे मैन्युअल रूप से उनके Theme में functions.php या किसी दुसरे फ़ाइल में जोड़ते हैं।

चूंकि ये Changes एक बार किए गए थे, इसलिए लोगों को याद रखने की Tendency नहीं है। अपनी थीम फ़ाइलों के ज़र्ये से जाएं और आपके द्वारा जोड़े गए सभी एडिशनल कोड को नोट करें।

आप अपने प्रेजेंट Theme के लोड समय को भी देखना चाहते हैं क्योंकि इस तरह आप दोनों को compare कर सकते हैं। Pingdom Tool जैसी साइट पर जाएं या अलग-अलग पजों का टेस्ट करने के लिए YSlow का यूज़ करें (हां अलग-अलग पेज, न सिर्फ होमपेज)।

2. साइडबार से सावधान रहेंWordPress Theme Change

आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि आपकी नई Theme Widget तैयार है। साइडबार विजेट्स का यूज़ करना रियल में आसान है इसलिए बहुत से यूजर इसे कस्टमाइज करने के लिए इसका यूज़ करते हैं। हमने देखा है कि साइडबार शायद वर्डप्रेस साइटों का सबसे user-customized एरिया है।

लोग कस्टम ग्रंथों, Images, लिंक, Advertisement, और दुसरे विजेट जोड़ने जैसे कई चंजेज़ करते हैं। यदि आप विजेट-इनेबल्ड थीम का यूज़ करते हैं, और आप उस थीम पर स्विच करते हैं जो विजेट-रेडी नहीं है, तो आप वह सब खो देंगे। यदि आप विजेट-इनेबल्ड वर्डप्रेस थीम का उयूज़ कर रहे हैं, तो यह कोई मुद्दा नहीं है।

आपके पुराने थीम की sidebar.php फ़ाइल में जो कुछ भी आप मॉडिफाई करते हैं, उसे ओवरराइट किया जाएगा। तो Sure करें कि आप उन कोड को नए थीम साइडबार में जोड़ दें।

3. ट्रैकिंग Loose ना करें

WordPress Theme Change

ज़्यादातर ब्लॉगर्स कुछ टाइप के एनालिटिक्स का यूज़ करते हैं चाहे वह Google Analytics हो या दूसरी सर्विसेज में से एक हो। हम में से बहुत से ट्रैकिंग कोड जोड़ने के लिए प्लगइन का यूज़ नहीं करते हैं। हम में से कुछ footer.php फ़ाइलते हैं और कोड मॉडिफाई करते हैं।

हमारे कुछ Theme में ऐडसेंस कोड रखने के लिए जगह है। जो कुछ भी आपके मामले में है, आपको  यह Sure करना चाहये हैं कि आप अपने ट्रैकिंग कोड को अपनी नई थीम पर कॉपी और पेस्ट कर सकें। यह उन चीजों में से एक है जिसे यूजर द्वारा बहुत ही अनदेखा किया जाता है। क्योंकि यह इतना आसान है, हम में से अधिकांश इसके बारे में भूल जाते हैं।

4. Good ‘ol RSS क्या तुम काम कर रहें हो?

हम में से कई हमारे वर्डप्रेस आरएसएस फ़ीड के लिए  FeedBurner का यूज़ करते हैं। फीडबर्नर को वर्डप्रेस में Integrate करने के कुछ पार्ट में से एक फीडबर्नर को आपकी डिफ़ॉल्ट फीड को पॉइंट करना है, इस तरह आप अपने फ़ीड कस्टमर पर एनालिटिक्स हासिल कर सकते हैं।  Genesis, Standard Themeऔर दूसरी  इस जैसी कई थीम आपके फीडबर्नर को उनके सेटिंग पैनल से Integrate करने की परमिशन देती हैं। आपको यह ध्यान रखना होगा की कि आप फीड को फीडबर्नर की तरफ डायरेक्ट रखे वरना आपके ब्लॉग के लिए दो आरएसएस फ़ीड होंगे।

मेन वर्डप्रेस, और फीडबर्नर एक जो आपके वर्डप्रेस आरएसएस फ़ीड से जानकारी ले रहा है। सिवाय इसके कि, आप बहुत सारे सब्सक्राइबर की गिनती खो देंगे क्योंकि आपके पास / फ़ीड / यूआरएल का यूज़ करके Subscription ली गई थी जो अब फीडबर्नर को पॉइंट नहीं करता है। दोबारा, इसका मतलब यह नहीं है कि आप उन्हें खो देते हैं, इसका मतलब यह है कि आप उन्हें फीडबर्नर गिनती में नहीं देख सकते हैं।

5.Backup!!

WordPress Theme Change

बैकअप बनाकर खोने के लिए आपके पास कभी भी कुछ नहीं है। एक सावधानी पूर्वक उपाय के रूप में, आपको अपनी सभी थीम फ़ाइलों, प्लगइन्स और डेटाबेस का बैकअप लेना चाहिए। हालांकि कभी कुछ होना नहीं चाहिए, लेकिन आप कभी भी सिक्योर नहीं हो सकते हैं। आप BackupBuddy का यूज़ अपने लिए एक फुल-साइट बैकअप बनाने के लिए कर सकते हैं।

6. Maintenance मोड

WordPress Theme Change

आप शायद अपने यूजर को WordPress Theme Change करने के दौरान नहीं देखना चाहते हैं क्योंकि वे शायद ब्रोकन साइट को देखकर ख़त्म हो जाएंगे। 15-20 मिनट के लिए Maintenance mode ऑन करना सबसे अच्छा है यह Sure करने के लिए कि सब कुछ ठीक से काम कर रहा हैं। एक बार जब आप Maintenance mode सेट कर लेंगे, तो आप आगे बढ़ने और नई थीम को एक्टिवेट करने के लिए सही हैं।

7. सरे Plugins और फंक्शनलिटी को टेस्ट करना

एक बार जब आप नई थीम एक्टिवेट कर लेंगे, तो आपको यह Sure करना होगा कि आप अभी भी सभी फंक्शनलिटीऔर प्लगइन को बनाए रखेंहुए है। याद करें कि आपने good ol’ नोट्स लिस्ट जो आपने स्टेप1 में बनाई थी। यही वह वक़्त है जहां यह आसान हो सकता है।

वापस जाएं और किसी भी या सभी फंक्शनलिटी को जोड़ें जो आप पुरानी थीम से नई थीम में लाना चाहते हैं अगर आपने पहले से ऐसा नहीं किया है। कमेंट प्रोसेस, सिंगल पोस्ट पेज, सर्च, 404 पेज, Archive पेज, कांटेक्ट पेज इत्यादि के साथ सभी फैसिलिटी को आज़माएं, Sure करें कि आपके सभी Widget अभी भी वहां हैं और काम कर रहे हैं।

प्लगइन फ्रंट पर, आप बस यह Sure करना चाहते हैं कि Formatting अभी भी वही है। बहुत सारे प्लगइन आपके आउटपुट को डिस्प्ले करने के लिए आपकी मौजूदा स्टाइल का यूज़ करते हैं। तो आप शायद यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि क्या वे अभी भी नई थीम के साथ अच्छे लग रहे हैं।

8. क्रॉस ब्राउज़र कैपबिलिटी

WordPress Theme Change

अपनी साइट का उन सभी ब्राउज़रों में टेस्ट करें जिनके पास आपकी पहुंच है। ब्राउज़रों की चीजों को अलग-अलग तरह से Render करने की Tendency होती है। खास कर इंटरनेट एक्सप्लोरर। आप यह Sure करना चाहते हैं कि आपका डिज़ाइन पॉपुलर ब्राउज़रों में अच्छा लगे। कुछ अच्छे दिखने वाले Themes में डिफरेंट ब्राउज़रों में तोड़ने की Tendency होती है। इसलिए यदि आपके बहुत से Subscriber इंटरनेट एक्सप्लोरर का यूज़ कर रहे हैं, तो आपको यह Sure करना चाहए कि यह अभी भी उनके लिए एक्सेसिबल है।

9. उन थर्ड पार्टी आइटम को खुबसूरत बनाएं

यदि आप Google Adsense या किसी दुसरे ऐड कंपनी का यूज़ कर रहे हैं जो आपको उन्हें फ़ॉर्मेट करने की परमिशन देता है, तो आपकी बेस्ट शर्त उन्हें कस्टमाइज करना है। उदाहरण के लिए, आपकी पिछली साइट नारंगी थी, इसलिए आपके पास Google ऐडसेंस के लिए नारंगी लिंक थे। अब अगर यह नीला है, तो आप शायद इस पे ध्यान देना चाहते हैं।

कुछ ट्विटर Widget, फेसबुक जैसे बटन इत्यादि के लिए भी जाता है। अपनी नई कलर स्कीम  के साथ उन्हें एडजस्ट करें। यदि आप एक लाइट से डार्क डिजाईन में जा रहे हैं, या इसके उलट, तो आपको उन चंजेज़ को करने की ज़रूरत है।

10. लेट your यूजर  Know

WordPress Theme Change

Maintenance मोड बंद करें, और यूजर को जानने के लिए एक क्विक ब्लॉग पोस्ट लिखें। ध्यान दें, आपने केवल चीजों की जांच करने पर 15-20 मिनट की तरह बिताई है। ऐसा कोई रास्ता नहीं है कि आप सभी बग पकड़ सकें। अपने यूजर को यह बताकर, आप बग रिपोर्ट हासिल करने की उम्मीद कर सकते हैं। 

यह देखने के लिए कि क्या साइट अपने ब्राउज़र में अच्छी दिखती है, ट्विटर, फेसबुक आदि के ज़र्ये से अपने दर्शकों से पूछें। अगर वे हाँ कहते हैं, तो यह एक अच्छी खबर है। अगर वे नहीं कहते हैं, तो उन्हें इस इशू का एक स्क्रीनशॉट लेने के लिए कहें। आप इस इशू  पर एक नज़र डाल सकते हैं और इसे ठीक करने की कोशिश  कर सकते हैं। यदि आप इसे ठीक नहीं कर सकते हैं, तो कृपया इसे ठीक करने के लिए थीम के डेवलपर से पूछें।

नोटिस: जब तक आप थीम के लिए पेमेंट नहीं करते हैं, इन डेवलपर्स को उन इशू को मुफ़्त में ठीक करने की ज़रूरत नहीं है।

लोगों के पास सभी तरह के ब्राउज़र, स्क्रीन Resolution इत्यादि हैं, इसलिए उनकी राय हासिल करना इम्पोर्टेन्ट है। अपने आरएसएस रीडर्स को साइट पर जाने के लिए याद दिलाना न भूलें, ताकि वे आकर्षक चीजें देख सकें।

11. Pruning plugins

थीम्स अब बहुत सारी फीचर के साथ Pre-Loaded आ रही हैं। उदाहरण के लिए, यदि आप Genesis या किसी Theme का यूज़ कर रहे हैं जिसमें ब्रेडक्रंब हैं, तो आप अपने ब्रेडक्रंब प्लगइन से छुटकारा पा सकते हैं। कांसेप्ट सिंपल है।

उन चीज़ों से छुटकारा पाएं जिनकी आपको आवश्यकता नहीं है। एक चीज जो आपको Sure करनी चाहिए कि  प्लगइन अक्सर अपनी जॉब बेहतर कर सकता है। उदाहरण के लिए बहुत सी थीम SEO फैसिलिटी के साथ आ रही हैं।

12. चेंज करते वक़्त बेबी स्टेप लें

WordPress Theme Change

आप यहां एक नई थीम के साथ काम कर रहे हैं, इसलिए शायद यह बेस्ट है कि आप सावधानी से चेंज करें। यह सुनिश्चित करने के लिए छोटे एलिमेंट को बदलें कि यह सभी ब्राउज़रों में ठीक से बेहेव करते है। फिर एक बार जब आप Comfortable हो जाते हैं, तो आप Drastic चेंज कर सकते हैं। बड़े बदलाव करने से पहले नई थीम की स्ट्रक्चर और सेमांटिक्स सीखना ज़रूरी है। यह आपको तुरंत प्रॉब्लम का पता लगाने की परमिशन देगा।

13. लोडिंग टाइम टेस्ट करें

लोड टाइम नंबर जो आपके पुराने थीम पर थीं उसे लें (इस लिस्ट के आइटम 1 से), और दोनों की तुलना करें। देखें कि  Slideshare पर Syed’s की Presentation  को जांचकर लोड टाइम में सुधार करने के लिए आप क्या कर सकते हैं।

14. अपने बाउंस रेट को मॉनिटर करें

WordPress Theme Change करने के बाद, आपको यह सुनिश्चित करना चाहए कि आप बाउंस रेट की निगरानी कर रहे हैं। जब आपकी साइट के आसपास रीडर को नेविगेट करने की बात आती है तो कुछ थीम दूसरों की तुलना में ज़्यादा फ्रेंडली होती हैं।अगर पिछली थीम की तुलना में आपकी बाउंस रेट बढ़ी है, तो आपको शायद उस पर काम करना चाहिए। रिलेटेड पोस्ट विजेट,पॉपुलर पोस्ट विजेट जोड़ें, या नए रीडर के लिए बस एक बेहतर कॉल-टू-एक्शन जोड़ें।

15. अपने रीडर को सुने और इमप्रोव करें

जब कोई नया डिज़ाइन आता है, तो यूजर के पास हमेशा Suggestion होते हैं। वे या तो एक स्पेसिफिक फीचर से प्यार करते हैं, या एक स्पेसिफिक फीचर से नफरत करते हैं। सर्वे या फेसबुक पोल का यूज़ करके अपने Subscriber के साथ कम्यूनिकेट करें। देखें कि वे क्या सुधार देखना चाहते हैं, और फिर इसे पूरा करने पर काम करें।

WordPress Theme Change करते समय क्या आपके पास अपनी खुद की कोई चेकलिस्ट है? अगर हम कुछ भूल गए हैं तो हमें इसे सुनना अच्छा लगेगा।

हमें उम्मीद है कि इस आर्टिकल ने आपको परफेक्ट WordPress Theme Change करने की पूरी जानकारी को जानने  में मदद की होगी। आप हमारे ब्लॉग Beginners Guide: WordPress Theme Install कैसे करें को भी पढ़ सकते है।

अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया, तो आप  वर्डप्रेस वीडियो ट्यूटोरियल्स के लिए हमारे YouTube Channel को Subscribe करें। आप हमें Twitter और Facebook पर भी फॉलो कर सकते हैं।