On-Page SEO: परफेक्ट पेज Optimization Techniques

0
113

ऐसे कई लोग हैं जिन्होंने ब्लोगिंग तो शुरू कर दी हैं, और कई ऐसे दुसरे लोगों जिन्होंने ने कुछ वक़्त के लिए अपनी साइट चलाई है, और वो नहीं जानते कि On-Page SEO क्या है और इसे कैसे इम्प्लेमेंट किया जाए! ऑन-पेज एसईओ उन सभी चीजों को रेफ़र करता है जो आप अपनी वेबसाइट पर अपनी रैंक को बढ़ाने के लिए कर सकते हैं, जैसे पेज टाइटल, इंटरनल लिंकिंग, मेटा टैग और डिस्क्रिप्शन इत्यादि। 

On-Page SEO

आज के इस पोस्ट में हम विशेष रूप से On-Page SEO और सर्च इंजन पर अपनी पेज रैंकिंग बढ़ाने के कुछ सबसे इफेक्टिव तरीकों को देखेंगे। तो जानते उन टेक्निक्स को जिनकी  हेल्प से हम अपने ब्लॉगस की रैंकिंग को बाधा सकते है।

On-Page SEO Tips

1.पेज Title

आपका पेज टाइटल आपकी साइट पर सबसे इम्पोर्टेन्ट On-Page SEO फैक्टर में से एक है। आपके हर पेज और पोस्ट का अपना यूनिक टाइटल होना चाहिए, जिसमें उस पेज के मेन कीवर्ड शामिल हों।

उदाहरण के लिए आप किसी नई चॉकलेट आइसक्रीम के बारे में एक ब्लॉग पोस्ट लिख सकते है जिसे आपने पहले आजमाया हो। इसके लिए सबसे ज्यादा ज़रूरी ये है के आप को अपने ब्लॉग के टाइटल में ‘चॉकलेट आइसक्रीम की रेसेपी’ या फिर किसी दुसरे नाम से टाइटल जिस में चॉकलेट आइसक्रीम ज़रूर शामिल करें।

इस तरह, जब भी कोई सर्च इंजन में चॉकलेट आइसक्रीम की रेसेपी की खोज करेगा तो आपके पोस्ट को दिखने का एक बेहतर मौका होता है क्योंकि आपने उन कीवर्ड को शामिल किया है।

2.Meta Descriptions

बहुत से लोग अपने पेज के लिए Meta Description शामिल करना भूल जाते हैं। ये डिस्क्रिप्शन आपके कंटेंट के लिए रेलेवेंट कीवर्ड शामिल करने के लिए एक इम्पोर्टेन्ट प्लेस हैं, क्योंकि इन्हें आपके पेज के लिस्ट होने पर सर्च रिजल्ट में यूज़ किया जाता है।

उदाहरण के लिए, यदि हम ‘चॉकलेट आइसक्रीम की रेसेपी’ कायूज़ करना जारी रखते हैं, तो उस पेज के अच्छे Meta Description के लिए रिलेटेड Keywords शामिल करें।

 3.Meta Tags

अपने हर पेज के लिए, आप मेटा टैग के रूप में कीवर्ड का एक सेट शामिल कर सकते हैं। ये आपके कंटेंट के सभी रेलेवेंट कीवर्ड होना चाहिए, जिन्हें आपने पहले खोजा होगा।

आप इसके लिए अपने साईट पे ‘All In One SEO Pack’ के नाम का प्लग इन यूज़ कर सकते है। यह आपको पब्लिश से पहले आपके हर एक पोस्ट के नीचे आपके सभी मेटा टैग कीवर्ड, मेटा डिस्क्रिप्शन और पेज टाइटल  इंटर करने की परमिशन देता है।

यह आपके लिए आपके पेज को HTML फ़ॉर्मेट में सभी जानकारी को इन्सर्ट करता है, जिससे आपका का काम थोरा  आसान हो जाता है।

4 URL Structure

अपने हर एक पेज के लिए सर्च इंजन फ्रेंडली URL Recommend की जाती है, क्योंकि इससे बेहतर क्रॉलिंग में हेल्प मिलती है। छोटे URLसर्च इंजन रिजल्ट में बेहतर परफॉर्म करते हैं, हालांकि यह एकमात्र फैक्टर नहीं है। URL जिनमें टार्गेट कीवर्ड शामिल होते हैं वो भी बेहतर परफॉर्म करते हैं। इन keywords का लोकेशन भी एक बड़ा Influence करने वाला On-Page SEO फैक्टर हो सकता है।

5.Body Tags (H1, H2, H3, H4, etc.)

अपने आर्टिकल लिखतेवक़्त, लोगों को पढ़ने के लिए आसान बनाने के लिए आपको अपने कंटेंट को छोटे सेक्शन और पैराग्राफ में डिस्ट्रीब्यूट करना चाहिए। इन सेक्शन को हैडिंग दिया जा सकता है, जहांH1, H2, H3, H4, आदि टैग का यूज़ कर सकते है।

आम तौर पर H1 टैग आपके मेन पेज टाइटल के लिए रिजर्व्ड होते हैं, इसके बाद के टाइटल (जैसे कि मैंने इस पोस्ट में यूज़ किया है)H2, H3 आदि जारी किए जा रहे हैं। सर्च इंजन यह कंफ़र्म करने के लिए करते हैं कि आपके कंटेंट में क्या इम्पोर्टेन्ट है।

यही वजह है कि कीवर्ड रिच हेडिन जेनेरिक की तुलना में ज्यादा Useful हैं। कंफ़र्म करें कि आप H1, H2 और H3 टाइटल टैग में प्रायोरिटी के आर्डर में कीवर्ड डेंस टाइटल लिखते हैं। इम्पोर्टेन्ट कंटेंट को अलग करने के लिए उनका यूज़  कई क्रॉलर द्वारा किया जाता है।

6.Keyword Density

आपके कंटेंट में रेलेवेंट कीवर्ड शामिल करना बहुत इम्पोर्टेन्ट है, क्योंकि यह सर्च इंजन को आपके कंटेंट के बारे में बताता है। हालांकि, केवल सर्च इंजन रोबोट के लिए कीवर्ड को दोहराने और ज्यादा यूज़ करने से बचे। यह आपकी साइट को सर्च इंजन से Banned कर सकता है।

banned होने से बचने के लिए, अपने कीवर्ड डेंसिटी को लगभग 2-5% तक रखने की कोशिश करें। अगर आपको यह मुश्किल लगता है, तो Thesaurus प्राप्त करें और अपनी राइटिंग वोकाबुलारी को Broad करें। इस तरह, आप बिना किसी रिस्क के उस बारे में लिख सकते है।

7.Image SEO

On-Page SEO

अपनी कंटेंट के अन्दर Image का यूज़ करना आपकी साइट को Visually ज्यादा Attractive बनाने और टेक्स्ट के उबाऊ भाग को तोड़ने का एक शानदार तरीका है। आप अपनी On-Page SEO को बेहतर बनाने में मदद के लिए इन इमेजेज का यूज़ कर सकते हैं।

आपकी सभी अपलोड की गई इमेजेज में टाइटल हैं, इसलिए उन्हें अपने पेज के टाइटल की तरह ही ट्रीट करें। रेलेवेंट कीवर्ड के साथ Google पे इमेज को खोजते वक़्त लोगों को आपकी साइट ढूंढने में मदद मिल सकती है।

आप अपनी Images के लिए Alt टेक्स्ट और डिस्क्रिप्शन भी शामिल कर सकते हैं, जिससे उन्हें SEO के साथ और भी Useful बनाया जा सकता है

 8.Internal Linking

अपने दुसरे वेबसाइट पेजों के लिंक रखना, आपकी साइट को बेहतर बनाने और सही तरीके से यूज़ करने का एक शानदार तरीका है, इंटरनल लिंक आपके SEO Arsenal में एक उपयोगी हथ्यार हो सकता है।

यह न सिर्फ आपके Visitors के लिए आपकी साइट के चारों ओर नेविगेट करना और आपकी सभीकंटेंट्स को ढूंढना बहुत आसान बनाता है, बल्कि यह भी कंफ़र्म करता है कि आपकी साइट ठीक से क्रॉल हो जाए, जिससे खोज इंजन आपके सभी पेजेज को ढूंढ सकें। यह रेलेवेंट पेज और फ्रसेज़ के लिए पेज की Relevancy बनाने में भी मदद करता है, जबकि आपके पेजेज के Google पेजरैंक को बढ़ाने में भी मदद करता है।

आपकी इंटरनल लिंकिंग स्ट्रक्चर को बेहतर बनाने के लिए कई अलग-अलग विधियां यूज़ की जा सकती हैं। जिनमे से मेन  है; content links और permanent navigation links.

ब्लॉगर्स के लिए, सही ढंग से यूज़ किए जाने पर कंटेंट लिंक बहुत Useful होते हैं। ये वे लिंक हैं जो आपके आर्टिकल  पोस्ट में रखे गए हैं, जो लोगों को आपकी साइट पर दुसरे रेलेवेंट पेज पर रीडायरेक्ट करते हैं।

ये 8 टेक्निक्स कुछ तरीकों से हैं जिन पर आप अपने On-Page SEO को बेहतर बना सकते हैं। इंडिपेंडेंट रूप से इस्तेमाल किया जाने वाला कोई भी तरीका आपकी साइट रैंकिंग में बहुत अंतर नहीं ला सकता है, हालांकि जब एक साथ यूज़ किया जाता है, तो वे आपकी साइट ट्राफिक को बेहतर बनाने में मदद कर सकते हैं।

वे आपके पेज को बेहतर तरीके से काम करने में मदद करेंगे, वे आपकी Entire साइट को सर्च इंजन स्पाइडर द्वारा क्रॉल करने में मदद करेंगे, वे इंटरनल पेजेज के वैल्यू को बढ़ाने में मदद करेंगे और वे स्पेसिफिक कीवर्ड फ्रसेस के लिए इंटरनल पेज की Relevancy का निर्माण करेंगे।